Google+ Followers

बुधवार, 22 अप्रैल 2015

प्यार


प्यार का इजहार करने के लिये क्या कोई दिन निश्चित होता हैं यह तो कभी भी किया जा सकता हैं हाँ एक बहाना जरूर मिल जाता हैं रिश्तों को फिर से नवीन करने के लिए. प्यार शब्द में सारी दुनिया समाई हुई हैं.एक मीठा एहसास जो जीवन में ताजगी भर देता हैं. प्यार आदमी को बहुत कुछ सिखाता हैं. कभी कभी खामोशी भी शब्दों से अधिक असरदार होतीं हैं. रिश्तों में यदि प्रेम न हो तो वे अधूरे रह जाते हैं और कुछ प्रेम ऐसा भी होता हैं जिसका कोई रिश्ता नहीं होता.

बहुत कुछ हैं लिखने के लिए लेकिन फिर भी हम प्रेम का सही मायनों में अर्थ नहीं जानते. दुख होता हैं जब समाचार पत्रों में खबर पढ़ती हूँ कि प्रेमी ने प्रेमिका की जान ली.प्रेमिका ने आत्मा हत्या की और ऐसी ही कई खबरें जहाँ प्रेम के नाम पर कुछ और किया जाता हैं. प्यार तो व्यक्ति को सच्चाई और ईमानदारी के रास्ते पर ले जाता हैं लेकिन कुछ लोग प्यार के मायने ही बदल देते हैं.

प्यार में पाने में आनंद नहीं बल्कि खोने में हैं. किसी की आँख का आँसू आपकी आँखों में हो और किसी का दुख आपकी नींद उड़ा दे, किसी की हँसी आपके लिये सबसे कीमती हो और आप सारी दुनिया को भुला दे. यही तो प्यार के रंग हैं. आज लोगों में ईर्ष्या ,द्वेष नफरत इतने घर कर गए हैं कि प्यार को जगह ही नहीं मिल पाती. प्यार मात्र शारीरिक आकर्षण और तोहफे लेन देन का नाम नहीं.बल्कि आपकी भावना हैं जो आपके दिल में हैं. कुल मिलाकर जितना कहूँ कम ही होंगा.

सिर्फ यहीं कहना चाहती हूँ कि एक दिन महँगे तोहफे देने, और आई लव यूँ कहने को प्यार नहीं कहते. बल्कि प्यार खुद ही अनमोल तोहफा हैं जिसे किसी और तोहफे की जरूरत नहीं. न शब्दों की जरूरत हैं. सिर्फ एहसास हैं ये रूह से महसूस करों प्यार को प्यार ही रहने दो कोई......................


प्रेषक
मोनिका भट्ट (दुबे)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें